इरफान पठान ने लगाया बड़ा आरोप, कहा-गेंदबाजों पर भरोसा नहीं उन्हें कंट्रोल करते थे धोनी!

Spread the love

नई दिल्ली: महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय कप्तान रहते हुए टीम को कई ऐतिहासिक खिताब जिताए हैं. वह सभी आईसीसी ट्रॉफी जीतने वाले इकलौते भारतीय कप्तान हैं. धोनी को ऐसे कप्तान के तौर पर जाना जाता है जो अपने खिलाड़ियों पर भरोसा करते हैं उन्हें बैक करते हैं. हालांकि पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज इरफान पठान ने खुलासा किया कि विश्व कप विजेता पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 2007 में जब अपना कप्तानी कार्यकाल शुरू किया था तब वह अपने गेंदबाजों पर नियंत्रण करना पसंद करते थे लेकिन 2013 तक उन्होंने उन पर भरोसा करना शुरू कर दिया था और इसी दौर में वह काफी शांत नेतृत्वकर्ता भी बन गये थे.

कप्तानी की शुरुआत में काफी उत्साहित रहते थे धोनी
पठान 2007 विश्व कप विजेता टीम और 2013 चैंपियंस ट्रॉफी जीतने वाली टीम का हिस्सा थे और धोनी की कप्तानी में खेले थे. 35 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि जैसे जैसे समय बीतता गया धोनी में कप्तान के तौर पर कई तरीकों से बदलाव हुआ. पठान से स्टार स्पोर्ट्स के ‘क्रिकेट कनेक्टिड’ शो में धोनी के कप्तान के रूप में 2007 और 2013 के बीच बदलाव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘2007 में यह पहली बार था और जब आपको टीम की अगुआई की बड़ी जिम्मेदारी दी जाती है तो आप थोड़े उत्साहित हो जाते हो, आप इसे समझ सकते हो.’ उन्होंने कहा, ‘हालांकि टीम बैठक हमेशा कम समय की होती थी, 2007 में भी और 2013 में चैम्पियंस ट्राफी के दौरान भी. सिर्फ पांच मिनट की बैठक.’

वक्त के साथ-साथ शांत हो गए महेंद्र सिंह धोनी
इस साल के शुरू में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा करने वाले इस तेज गेंदबाज ने धोनी में एक बदलाव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘2007 में वह उत्साहित होकर विकेटकीपिंग से गेंदबाजी छोर तक भागा करते थे और साथ ही गेंदबाजों पर भी नियंत्रण करने की कोशिश करते थे लेकिन 2013 में वह गेंदबाजों को खुद पर नियंत्रण करने देते थे. वह बहुत शांत हो गये थे.’ पठान ने कहा कि 2013 तक धोनी ने मैच जीतने के लिये मुश्किल परिस्थितियों में स्पिनरों को लगाना शुरू कर दिया था.

उन्होंने कहा, ‘2007 और 2013 के बीच उन्होंने अपने धीमे गेंदबाजों और स्पिनरों पर भरोसा करने का अनुभव हासिल किया और जब तक चैम्पियंस ट्रॉफी आयी, वह बहुत स्पष्ट होते थे कि अहम मौके पर मैच जीतने के लिये उन्हें अपने स्पिनरों को लगाना होगा.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *