उत्तराखंड BJP में हो सकता है बड़ा फेरबदल, जानिए क्या है वर्क प्लान

Spread the love

देहरादून: उत्तराखंड बीजेपी एक और बड़े बदलाव की ओर बढ़ रही है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की जगह किसी और को जिम्मेदारी दे सकती है. साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि बीजेपी मदन कौशिक के साथ एक और कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त कर दे. बीजेपी की इस रणनीति के पीछे तेजी से बदले सियासी घटनाक्रम को माना जा रहा है. बीजेपी के अंदर जहां दो-दो सीएम बदल दिए गए, तो वहीं कांग्रेस ने अप्रत्याशित रणनीति अपनाते हुए एक की जगह पांच-पांच अध्यक्ष बना डाले. इसमें भी जातिगत और क्षेत्रीय समीकरणों का कांग्रेस ने बारिकी से ध्यान रखा है. तराई में पंजाबी समुदाय की बहुलता के चलते ऊधमसिंह नगर से कांग्रेस ने पूर्व कैबिनेट मंत्री तिलकराज बेहड़ को कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया.

वहीं, मुख्यमंत्री पुष्कर धामी की विधानसभा सीट खटीमा से युवा नेता भुवन कापड़ी जो कि ब्राहमण चेहरा हैं, को कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया गया. इसी तरह कुमाऊं से ठाकुर चेहरा रणजीत रावत, गढ़वाल से एससी चेहरा प्रो.जीतराम को भी कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया गया. गढ़वाल से ब्राहमण चेहरा युवा गणेश गोदियाल को कांग्रेस ने अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंप दी. कांग्रेस की अपेक्षा अब बीजेपी में जातिगत और क्षेत्रीय संतुलन उतना सटीक नहीं दिखाई देता. हरिद्वार सीट से विधायक और प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक मैदान से हैं, पहाड़ में उनकी उतनी स्वीकार्यता नहीं है. खुद बीजेपी संगठन के भीतर ये कमी महसूस की जाती रही है. इस बीच तीसरे सीएम पुष्कर धामी भी भले ही जन्मे पहाड़ में हों, लेकिन उनकी कर्मस्थली मैदान के तराई की खटीमा सीट ही रही है. इस बीच हरिद्वार से सांसद रमेश पोखरियाल निशंक को भी केंद्रीय कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखाकर कुमाऊं के नैनीताल से सांसद अजय भटट को केंद्र में राज्य मंत्री बना दिया गया. इससे बीजेपी की सियासी परंपरा के तहत गढ़वाल , कुमाऊं, मैदान, पहाड़ में एक असंतुलन पैदा हो गया. कांग्रेस की रणनीति के बाद तो इस असंतुलन को इतनी हवा मिली कि बीजेपी में अध्यक्ष बदले जाने की चर्चा जोर पकड़ गई.

हालांकि, बीजेपी इन सारी चर्चाओं को निर्मूल करार दे रही है. संगठन और सरकार के बीच महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत का कहना है कि ऐसा कोई विचार नहीं है. कांग्रेस एक षडयंत्र के तहत इस बात को हवा दे रही है, तो दूसरी ओर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल का कहना है कि बीजेपी अध्यक्ष बदले न बदले कांग्रेस का इससे कोई मतलब नहीं है. लेकिन, खुद बीजेपी के नेता इस बात को हवा दे रहे हैं. साढ़े चार साल में बीजेपी तीन सीएम बदल सकती है तो कुछ भी कर सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *