झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र शुक्रवार से होगा शुरू, विपक्ष ने की हेमंत सरकार को घेरने की तैयारी

Spread the love

रांची: कोरोना संकट के बीच 18 सितंबर से 22 सितंबर तक झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आहूत किया गया है. सत्र के पहले दिन शोक प्रस्ताव में पिछले सत्र से इस सत्र के बीच दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी जाएगी. इसके अलावा झारखंड सरकार पहले ही दिन यानी 18 सितंबर को सदन में अनुपूरक बजट लाने की तैयारी में है. जबकि विपक्ष सदन में कोरोना संक्रमण के दौरान सरकार के द्वारा किए गए कार्यों पर हेमंत सरकार को घेरने की कोशिश करेगा.

बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष नहीं बनाने का मुद्दा
मार्च में विधानसभा के बजट सत्र के दौरान बाबूलाल मरांडी का मुद्दा कई दिनों तक गरम रहा था. भाजपा के विधायक बार बार वेल में आकर बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष का दर्जा देने की मांग कर रहे थे. इस बार भी भाजपा इस मुद्दे को उठाएगी. इसकी वजह यह है कि स्पीकर ने सर्वदलीय बैठक के लिए सभी दलों के नेताओं को जो आमंत्रण पत्र भेजा था उसमें जेवीएम विधायक दल के नेता के रूप में प्रदीप यादव का तो नाम था, लेकिन बाबूलाल की जगह वरिष्ठ भाजपा नेता सीपी सिंह को आमंत्रित किया गया था.

लैंड म्यूटेशन एक्ट में संशोधन का मुद्दा
विपक्ष और खास कर भाजपा इस मुद्दे को पूरी गंभीरता से उठाने की तैयारी कर ली है. इस एक्ट के कई प्रावधानों का जिक्र करते हुए भाजपा हेमंत सोरेन सरकार को यह कहते हुए घेरने की कोशिश करेगी कि लैंड म्यूटेशन एक्ट में संशोधन इस लिए लाया गया है, ताकि आदिवासी-मूलवासी के जमीन हड़पने वाले को बचाया जा सके. इस मुद्दे पर भाजपा के आक्रामक रहने का संकेत 16 सितंबर को ही मिल गया, जब पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इसके बहाने सीधा हमला सोरेन परिवार पर बोल दिया था. लैंड म्यूटेशन का मुद्दा ऐसा मुद्दा है जिस पर सरकार समर्थक बंधु तिर्की जैसे कई विधायक भी सत्ता की जगह विपक्ष के साथ दिखेंगे.

विधि व्यवस्था का मुद्दा ‌
भाजपा के विधायक अमित मंडल ने साफ कर दिया है कि सत्र भले ही छोटा रखा गया हो, लेकिन विपक्षी दल की तैयारी पूरी है. अमित मंडल ने कहा कि जिस तरह से हेमंत सोरेन सरकार में अपराध तेजी से बढ़ा है, इस मुद्दे को वह प्रतिबद्धता से उठायेंगे.

पलायन और बेरोजगारी
सरकार बनने के तीन महीने में ही पांच लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा कर सत्ता में आई हेमंत सोरेन से सदन में विपक्ष पूछेगा कि 03 महीने में 05 लाख के चुनावी वादे का क्या हुआ ? कोरोना काल मे घर लौटे प्रवासियों की फिर दूसरे राज्यों में रोजगार के लिए पलायन का सवाल उठाते हुए विपक्ष पूछेगा कि जब अपने ही राज्य में कितने युवाओं को रोजगार दिया गया और कितने युवा-युवतियां फिर घर द्वार छोड़ दूसरे राज्य में चले गए.

सहायक पुलिसकर्मियों का मुद्दा
रघुवर दास सरकार में बहाल किये गए 12 जिलों के 2269 सहायक पुलिसकर्मी लगातार आंदोलन पर हैं. इस मुद्दे को भी भाजपा जाया नहीं होने देगी और इस मुद्दे को बेरोजगारी से जोड़ते हुए सरकार को घेरेगी .

कोरोना की तैयारी और सुविधा, जांच का मुद्दा
भाजपा विधायक नवीन जायसवाल ने कहा कि भाजपा राज्य में कोरोना की स्थिति, जांच और इलाज की खराब स्थिति को मुद्दा बनाएगी.

सत्ता दल भी तैयार-आलमगीर आलम
विपक्ष द्वारा सरकार को घेरने की तैयारी पर हेमंत सरकार के संसदीय कार्य मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि सत्र के दौरान विपक्ष की तैयारी करता है तो सत्ता पक्ष की भी तैयारी है. सत्ता पक्ष भी केंद्र की सरकार की असफलता, जीएसटी में झारखंड की हिस्सेदारी नहीं देने ,कोरोना काल में प्रवासी लोगों को राहत नहीं देने के मुद्दे पर विपक्ष को चुप कराने की कोशिश करेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *