यूपीः लॉकडाउन में केशव मौर्य चला रहे हैं कम्युनिटी किचन

Spread the love

कौमी गुलदस्ता ब्यूरो रिपोर्टः कोरोना वायरस के खतरों के चलते 14 अप्रैल तक के लिए पूरी तरह से लॉकडाउन है. ऐसे में उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य प्रयागराज और लखनऊ में कम्युनिटी किचन के जरिए 5 हजार लोगों को सुबह और शाम भोजन करा रहे हैं. प्रयागराज में हर रोज 3 हजार तो लखनऊ में 2 हजार लोगों के लिए दोनों वक्त खाने का पैकेट तैयार किए जाते हैं.

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने निजी स्तर पर अपने गृहजनपद प्रयागराज से कम्युनिटी किचन शुरू किया है. किचन की देख रेख करने वाले बीजेपी नेता अरुण अग्रवाल ने बताया कि हर रोज करीब तीन हजार खाने के पैकेट जरूरतमंदों को बांटे जा रहे हैं. इसमें सुबह पूड़ी-सब्जी और रात में तहरी बनवाकर बांटी जाती है.

उन्होंने बताया कि किचन में स्वास्थ्य विभाग की सारी गाइडलाइंस को ध्यान में रखते हुए खाना बनाया जा रहा है. यहां सभी कारीगर सिर-चेहरे और हाथ को कवर करके खाना बना रहे हैं. इसके बाद खाने के पैकेट तैयार किए जाते हैं. करीब आधा दर्जन कारीगर पूरे दिन गर्मागर्म खान तैयार करते हैं.

पूर्व विधायक दीपक पटेल और बीजेपी कार्यकर्ता लगातार इसकी मॉनिरिटिंग करते है. जरूरत पड़ने पर मदद भी करते है. प्रयाग में पूर्व विधायक और बीजेपी कार्यकर्ता खुद खाने के पैकेट बांध रहे हैं. इन खाने के पैकेट को पुलिस के सहयोग से बीजेपी कार्यकर्ता खुद जाकर बंटवाते भी हैं. डिप्टी सीएम केशव प्रशाद मौर्य ने पार्टी के नेताओं से अपने अपने जिलों में भी इसी तरह के इंतजाम किए जाने की अपील भी की है.

केशव मौर्य के कम्युनिटी किचन से बने खाने के पैकेट को पैदल जा रहे राहगीरों, झुग्गी- झोपड़ियों, मंदिर के बाहर रहने वाले गरीबों और रेलवे और बस स्टेशनों के बाहर रह रहे जररूतमंद लोगों तक भेजा जाता है. इसके अलावा कुछ लोग फोन करके जरूरतमंदों के लिए खाने के पैकेट मांगते हैं, उनको भी यह उपलब्ध कराया जाता है.

इतना ही नहीं, केशव मौर्य के कम्युनिटी किचन से बने भोजन के पैकेट गरीब और जरूरतमंदों के अलावा ड्यूटी पर तैनात लोगों को भी बांटे जा रहे हैं. स्वास्थ्य सेवा में लगे लोगों से लेकर पुलिस सहित तमाम विभागों तक खाने के पैकेट पहुंचाए जा रहे है. केशव मौर्य ने कहा कि लकनऊ और प्रयागराज में कोई भूखा ना रहे, इसकी पूरी कोशिश है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *