सुप्रीम कोर्ट के फ्लोर टेस्ट के आदेश के बाद मिले PM मोदी-अमित शाह, फिर हो गया फडणवीस का इस्‍तीफा…

Spread the love

कौमी गुलदस्ता संवाददाता: महाराष्ट्र में जारी सियासी नाटक के बीच मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और डिप्टी सीएम अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया. दोनों नेताओं का इस्तीफा सुप्रीम कोर्ट के फ्लोर टेस्ट कराने के आदेश के बाद हुआ है. इस बीच सूत्रों के मुताबिक खबर है कि सुप्रीम कोर्ट के फ्लोर टेस्ट कराने के आदेश के तुरंत बाद संसद भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बीच बैठक हुई थी. दोनों नेताओं के बीच कथित रूप से सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद विकल्पों पर चर्चा हुई, साथ ही इस बात की भी चर्चा हुई कि देवेंद्र फणणवीस को शक्ति परीक्षण का सामना करना चाहिए या इस्तीफा दे देना चाहिए. सूत्रों का कहना है कि बैठक के बाद देवेंद्र फडणवीस को एक मैसेज भेजा गया. इसके बाद देवेंद्र फणडवीस ने करीब 3:30 बजे इस्तीफे की घोषणा कर दी और कुछ देर बाद राजभवन जाकर राज्यपाल को इस्तीफा सौंप दिया.

इससे पहले 23 नवंबर की सुबह बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेकर पूरे देश को चौंका दिया था. साथ में अजित पवार ने डिप्‍टी सीएम पद की शपथ ली थी. इसके बाद तीनों दल सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए थें. सोमवार को इस मामले में सुनवाई हुई और फैसला मंगलवार की सुबह 10:30 बजे तक के लिए सुरक्षित रख लिया गया. सुप्रीम कोर्ट ने आज अपने फैसले में कहा कि शाम 5 बजे तक सदन में देवेंद्र फडणवीस बहुमत साबित करें. साथ ही यह भी निर्देष दिया कि बहुमत साबित करने के लिए गुप्‍त मतदान नहीं होंगे और इसका लाइव प्रसारण किया जाएगा.

इस फैसले के बाद कल सदन में बहुमत साबित करने की तैयारी शुरू हो गई. बीजेपी की ओर से कहा गया कि हम सदन में बहुमत साबित कर देंगे. एनसीपी की ओर से अजित पवार को लगातार मनाने की कोशिश होती रही. इसी बीच अजित पवार ने अपने पद से इस्‍तीफा देकर सबों को चौंका दिया. अजित पवार के इस्‍तीफे के बाद देवेंद्र फडणवीस की तरफ से प्रेस कॉन्‍फ्रेंस किए जाने की सूचना आई.

प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को जनता ने जनादेश दिया था लेकिन शिवसेना कांग्रेस-एनसीपी के साथ बात करने लगी. यह कहा गया कि ढाई-ढाई साल के लिए सीएम पद की बात हुई थी जबकि ऐसा कुछ भी नहीं था. देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमारे पास बहुमत नहीं है. और इसके साथ ही अपने इस्‍तीफे की घोषणा कर दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *