योगी सरकार में अल्पसंखकों में नए मनोबल, चेतना और विश्वास का हुआ संचार – नंदी

Spread the love

उत्तर प्रदेश सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री एवं प्रयागराज शहर दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र से विधायक नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की बोर्ड परीक्षा वर्ष 2021 का परीक्षाफल घोषित किया। मंत्री नंदी के कंप्यूटर क्लिक करते ही परीक्षाफल घोषित हो गए। बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण सभी छात्र छात्राओं को मंत्री ने शुभकामनाएं देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की। मंत्री ने परीक्षाफल घोषित करते हुए कहा कि शासन द्वारा कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत अन्य बोर्डाें की भांति परीक्षा वर्ष 2021 की उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की सेकेंडरी (मुंशी/मौलवी), सीनियर सेकेंडरी (आलिम) की परीक्षा को निरस्त करते हुए पंजीकृत परीक्षार्थियों को उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद, प्रयागराज द्वारा अपनाई गई पद्धति के अनुसार कक्षोन्नति प्रदान करने का फैसला किया। मंत्री नंदी ने कहा कि बोर्ड परीक्षा 2021 में सेकेंडरी कक्षा में 96,213 एवं सीनियर सेकेंडरी कक्षा में 25,919 कुल 1,22,132 छात्र/छात्राओं का परिक्षाफल घोषित किया जा रहा है।

मंत्री नंदी ने कहा कि पूरे प्रदेश में सेकेंजरी कक्षा में 96,213 परीक्षार्थियों के सापेक्ष 95,624 छात्र/छात्राएं उत्तीर्ण/कक्षोन्नत हुए हैं जो कि 99.38 प्रतिशत है, जिसमें 54630 छात्र एवं 40994 छात्राएं हैं। सीनियर सेकेण्डरी कक्षा में 25919 परीक्षार्थियों के सापेक्ष 25659 छात्र/छात्रायें उत्तीर्ण/कक्षोन्नत हुए हैं जो कि 98.99 प्रतिशत है, जिसमें 13734 छात्र एवं 11925 छात्राएं हैं।

सरकार की मंशा एक हाथ में कुरान दूसरे में कप्यूटर हो
उन्होंने वर्ष 2021 की बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण हुए सभी छात्र-छात्राओं को बहुत-बहुत बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। ने कहा कि वह अपनी आगे की पढ़ाई निरन्तर जारी रखते हुए आगे भी बेहतर परिणाम हासिल करते हुए अपने परिवार, माता-पिता, प्रदेश एव देश का नाम रोशन करें। हमारी सरकार की मूल नीति ’’सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास के साथ सबका प्रयास’’ है। प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री की मंशा ’’एक हाथ में कुरान और दूसरे हाथ में कम्प्यूटर’’ से अल्पसंख्यको में एक नये मनोबल, चेतना और विश्वास का संचार हुआ है। अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र/छात्राओं के साशक्तिकरण की आधार नीति को यथार्थ धरातल पर लाने का कार्य हमारी सरकार निरन्तर कर रही है।

मदरसो में पढ़ाई जाएगी एनसीईआरटी की पुस्तकें
कहा कि केन्द्र तथा राज्य सरकार का यह भी लक्ष्य है कि मदरसों में पारंपरिक शिक्षा के साथ-साथ आधुनिक शिक्षा भी पूरे वैज्ञानिक तरीके से दी जाए तथा मदरसों के छात्र मुख्य धारा में शामिल हो। इसी को ध्यान में रखकर सरकार मदरसों की शिक्षा को नई तकनीको व पाठ्यक्रमों से जोड़ने का निरन्तर प्रयास कर रही है। मदरसों में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम लागू कर एनसीईआरटी की पुस्तकें उपलब्ध कराई जा रही हैं। आधुनिक विषयों की शिक्षा को बढ़ावा दिया जा रहा है। मदरसा पोर्टल बनाकर मदरसों की व्यवस्थाओं में पारदर्शिता लाई गई है तथा परीक्षा की समस्त कार्यवाही आनलाईन संचालित कराई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *